प्राचीन पुरातत्व तीर्थों की सुरक्षा आवश्यक- निर्मलकुमार सेठी जैन

prachin

चिकलठाणा (महाराष्ट्र) : जैन धर्म अति प्राचीन धर्मों में से एक है तथा जैन धर्म केवल भारत में ही नहीं, विश्व के कोने-कोने में जैन धर्म फैला हुआ था। अफगानिस्थान से लेकर इरान, इराक, इथोपिया, युरोप, अमेरिका आदि अनेक स्थानों पर जैन धर्म का अस्तित्व था।
पुरातत्व के धर्मो से, प्राचीन तीर्थं क्षेत्रों की ‘‘सुरक्षा’’ और संरक्षण होना आवश्यक है, ऐसे भावपूर्ण उद्गार भारतवर्षिय दिगम्बर जैन महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष निर्मल कुमार सेठी ने औरंगाबाद (महाराष्ट्र) में अध्यात्मयोगी राष्ट्रसंत आचार्य १०८ विशुद्ध सागरजी महाराज के सानिध्य में हिराचंद कासलीवाल प्रांगण में भारतवर्षिय दिगम्बर जैन महासभा अधिवेशन में बोल रहे थे। संयुक्त मंत्री प्रशांत टोंग्या, महाराष्ट्र अध्यक्ष सुमेरचंद काला, डि.बी. कासलीवाल डि.यु. ठोले, देवेंद्र काला, प्रकाश पाटणी व जैन गजट के राष्ट्रीय प्रतिनिधी एम.सी. जैन आदि उपस्थित थे। राष्ट्रीय अध्यक्ष निर्मल कुमार सेठी ने कहा, ‘‘गिरनारजी भारतीय जैन समाज का सिद्ध क्षेत्र है, उस पर भी अन्य समाज कब्जा जमाया हुवा है, बहुत अड़चने होती हैं, इस पर ध्यान देना होगा, आचार्य विशुद्ध सागरजी ने कहा, ‘‘पुरातत्व की रक्षा होनी चाहिए और प्राचीन क्षेत्रों का अस्तित्व सुरक्षित के लिए समाज और युवकों को ध्यान रखना होगा।
‘‘राष्ट्रीय अध्यक्ष निर्मल कुमार सेठी ने पत्रकार एम.सी. जैन के स्वास्थ्य के बारे में पुछा, हाल ही में पत्रकार एम.सी. जैन का एंजिओप्लास्ट’’ हुआ था, स्वास्थ्य की ओर पुरा ध्यान देने की बात सेठी जी ने कही। ललित पाटणी, रमेश बड़जाते, दिलीप कासलीवाल, अशोक गंगवाल, प्रकाश कासलीवाल, पं. शिवचरण लालजी, पं. कमलेश, पं. दिनेशजी आदि उपस्थित थे।

‘सेलो’ ग्रुप के चेयरमेन घीसूलाल बदामिया को दर्शन सागर अवार्ड
selo-group

मुंबई: ‘सेलो’ ग्रुप के चेयरमेन घीसूलाल बदामिया, धुलेवा ग्रुप के मोहन जैन और प्रमुख निर्यातक जयेश जैन को इस साल का दर्शन सागर अवॉर्ड मिला है। राष्ट्रसंत आचार्य चन्द्रानन सागर सूरीश्वर महाराज के सान्निध्य में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिव रघुवीर सिंह मीणा एवं राजस्थान कांग्रेस के महामंत्री नीरज डांगी के हाथों नाकोडा दर्शन धाम में सम्मानित किया गया।
दर्शन सागर अवॉर्ड समिति के प्रमुख प्रवीण शाह के अनुसार देश भर में शिक्षा, चिकित्सा, जीवदया और समाजसेवा के क्षेत्र में विशिष्ट कार्य के लिए राष्ट्रीय स्तर पर दिया जाने वाला यह प्रतिष्ठित सम्मान है। अवॉर्ड समिति के सदस्य मोती सेमलानी एवं निरंजन परिहार ने समारोह में मुख्य अतिथि रघुवीर सिंह मीणा एवं कांग्रेस महामंत्री नीरज डांगी का स्वागत किया। नाकोडा दर्शन धाम में आयोजित इस समारोह में ट्रस्ट मंडल के अध्यक्ष कांतिलाल शाह ने सभी का आभार जताया। आदिवासी महिलाओं को स्वावलंबी बनाने हेतु ट्रस्ट मंडल की ओर से सिलाई मशीनें वितरित की गर्इं।
नाकोडा दर्शन धाम में आयोजित इस समारोह में देश के कई राज्यों से आए करीब डेढ़ हजार दर्शन भक्तों की उपस्थिति में मेरे गुरूवर दर्शन सागर ग्रंथ एवं भक्ति संगीत की सीडी का विमोचन भी हुआ, अवॉर्ड समिति के प्रमुख प्रवीण शाह के मुताबिक समारोह में मीरा-भायंदर की पूर्व महापौर गीता जैन सहित उद्योग, व्यापार जगत के कई प्रमुख लोग उपस्थित थे। समारोह का संचालन ओजस्वी वक्ता ओम आचार्य ने किया एवं संगीतकार नरेंद्र वाणीगोता ने भक्ति रस से सराबोर संगीत का संयोजन किया। सागर समुदाय के गच्छाधिपति रहे आचार्य दर्शन सागर सूरीश्वरजी महाराज की पुण्यतिथि पर पिछले तेरह सालों से हर साल दिया जानेवाले राष्ट्रीय स्तर के अवॉर्ड समारोह का समापन राष्ट्रसंत आचार्य चन्द्रानन सागर सूरीश्वर महाराज के महामांगलिक प्रवचन से हुआ।

खजुराहो में आयोजित होगा सद्भावना सम्मेलन, १४ अक्टूबर को होगा आयोजन जरूर देखें मार्गदर्शन करें

खजुराहो : संत शिरोमणि आचार्य श्री १०८ विद्यासागर जी महाराज के सानिध्य में हथकरघा के प्रचार-प्रसार के लिए पहली बार सम्मेलन का आयोजन हो रहा है, जिसका नाम ‘सद्भावना सम्मेलन’ दिया गया है।
१४ अक्टूबर को आयोजित होने वाले इस सम्मेलन की तैयारी जोरों पर है, इस आयोजन के लिए सम्पूर्ण विश्व से हज़ारों श्रद्धालुओं के शामिल होने का अनुमान जताया जा रहा है, कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण होगा प्रातःकालीन पूजा जिसमें सभी हथकरघा निर्मित वध्Eा पहनेंगे। दोपहर में राष्ट्रीय स्तरीय हथकरधा वेशभूषा प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें भारत के सभी राज्यों से प्रतिभागी भाग ले रहे हैं। आचार्य श्री के मंगल प्रवचन एवं केंद्रीय जेल सागर के कैदियों द्वारा भव्य नाटिका का भी मंचन होगा एवं प्रज्ञाचक्षु कलाकारों द्वारा भव्य भजन संध्या का भी आयोजन किया गया है, अधिक जानकारी के लिये संपर्क करें-

-रेखा जैन

भ्रमणध्वनि: ७०००७३९३५१, ९६५०७१२८८०

ध्रुव आर. जैन, आगरा (सद्भावना सम्मेलन की ओर से प्रतिनिधि)

You may also like...