श्री पार्श्व जन्म कल्याणक महाभिषेक की सभा

shri-parshv-janm

मालव मार्तण्ड पू.आ.श्री मुक्ति सागरसूरिजी म.सा.की निश्रा में श्री शंखेश्वर पाश्र्वनाथ जैन संघ राजाजीनगर के सलोत आराधना भवन में आगामी षोष दशमी दि ३० एवं ३१ दिसंबर को श्री पाश्र्वनाथ प्रभु के जन्म दीक्षा कल्याणक पर होने वाले २३ लाख महाभिषेक की सफलता के लिए संपन्न हुई। सभा में सर्वश्री उत्तमकरण सचेती, जीवराज कामेला, नरपतराज सोलंकी, मीलनभाई सेठ, विजयराज राय गांधी, सुरेश बंदा मूथा आदि अनेक महानुभाव उपस्थित थे।
उक्त जानकारी समस्त जैन की एकमात्र ‘जिनागम’ के समाचार प्रभारी देवराज के. जैन ने देते हुए बताया कि तीन महिने बाद होनेवाला यह महाभिषेक बैंगलोर ही नहीं समग्र दक्षिण प्रांत का सर्वप्रथम एक विराट और अनूठा आयोजन होगा, इसमें १००८, जोड़े सहित २३०० प्रभु भक्त मिलकर १००८ नव निर्मित १००८ नव निर्मित प्रभु प्रतिमाओं पर २३ लाख अभिषेक संपन्न करेंगे, इससे पूर्व दि. ३० दिसंबर को १००८ प्रभु मुर्तियों को भव्यातिभव्य विराट जुलूस भी निकाला जायेगा एवं संध्या को ‘एक शाम पारस के नाम’ से भक्ति संध्या भी होगी।
श्री जैन ने बताया कि यह आयोजन बसवन गुड़ी के नेशनल ग्राउन्ड में होगा, किन्ही कारण से वहां हो सकने पर जयनगर के शालिनी ग्राउन्ड में किया जा सकता है।
इस महाभिषेक की विशाल कार्यकारिणी में आज नरेश नाहर एवं जयदीप शाह को भी जोड़ा गया, साथ ही इस विराट और भव्य आयोजन में भारत के पंतप्रधान नरेन्द्र मोदी को भी आमंत्रित करने का दायित्व नरेश नाहर को सौंपा गया है, इस आयोजन की तैयारियां पू. आचार्य श्री के मार्गदर्शन में बड़ी ही सुव्यवस्थित चल रही है।

बेंगलोर चिकपेट धार्मिक पाठशाला का वार्षिकोत्सव सम्पन्न
benglore-chikpet

बेंगलुरू : चिकपेट श्री आदिनाथ जैन श्वेताम्बर संघ द्वारा संचालित श्री विजयलब्धिसूरी जैन धार्मिक पाठशाला का वार्षिकोत्सव पन्यास श्री कल्परक्षित विजयजी म.सा., मुनि श्री अजितअनुसागरजी म.सा. आदि ठाणा साध्वीवर्या आदि की निश्रा व उपस्थिति में ‘गिरनार पर प्रण’ ऐतिहासिक नाटिका तीन-तीन पीढीयों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुती से सबको भाव-विभोर कर दिया।
पन्यास प्रवर श्री कल्परक्षित विजयजी म.सा. ने सम्बोधित करते हुए कहा कि गणधरों द्वारा रचित आगमों का ज्ञान, अर्थ व भावार्थ की जानकारी व ज्ञान पाठशाला में जाने से मिलेगा, उन्होंने पाठशाला की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए कहा कि माता-पिता को चाहिए कि संस्कृति बचाने के लिए बच्चों में धार्मिक संस्कार भरें और बच्चों को पाठशाला जरूर भेजें। मुनि श्री अजितचन्द्रसागरजी म.सा. ने कहा अखण्ड धारा से संस्कारों से सिंचन कर ९१ वर्ष का सफर धार्मिक पाठशाला का पुरा होना ऐतिहासिक है। जिनशासन की पताका लहराए, वैसे पाठशाला में संस्कार गुंजते रहेंगे। बाबुलालजी पारेख ने स्वागत भाषण द्वारा सबका स्वागत किया, पाठशाला के चेयरमेन देवकुमार के. जैन ने कहा कि व्यवहारिक शिक्षा के बोझ तले धार्मिक शिक्षा व संस्कार पूरी तरह से दबते जा रहे हैं ऐसे में आत्मोन्नति के मार्ग पर आगे कैसे बढे, इन्ही प्रश्नों का उत्तर खोजने के सार्थक प्रयास का नाम श्री विजयलब्धि धार्मिक पाठशाला की पूरे भारत वर्ष में विशिष्ट पहचान बनी है। श्री जैन ने यही भी कहा कि मानव समाज मां-बाप, भाई-बहन आदि अगर बच्चों से घनिष्ट व प्यारा रिश्ता बना रहे क्योंकि इसकी बराबरी कोई भी रिश्ता नहीं कर सकता। बच्चे हमारा ही नया स्वरूप हैं। नौ दशक पहले स्थापित इस पाठशाला से ९० चरित्र सम्पन्न साधु-साध्वी भी समाज को दिए, जिसमें कई ज्ञानी साधु-साध्वी शामिल हैं। अखिल भारतीय स्तर पर आयोजित जैन तत्व ज्ञान विद्यापीठ परिक्षा में पाठशाला ने स्वर्ण पदक प्राप्त किए हैं। पाठशाला की सफलता का श्रेय ट्रस्ट मंडल, उदारमना व्यक्तियों, गुरूओं और अभिभावकों को जाता है जो अपने बच्चों को यहां भेजते हैं। आभार प्रकट प्रकाशचंद राठोड़ जैन ने किया, गौतम सोलंकी जैन ने विचार व्यक्त किए, कनिक्की ने संचालन किया। सुरेन्द्र सी. शाह गुरूजी, सुरेश शाह गुरूजी ने पाठशाला की गतिविधीयों की जानकारी दी। नटवरशाह गुरूजी, प्रवीण शाह गुरूजी, विक्रमशाह गुरूजी सहित बेंगलोर की कई अध्यापकों का बहुमान किया गया। उत्तीर्ण विद्यार्थियों को पुरस्करित किए गये, कार्यक्रम में संगीत की प्रस्तुती पाठशाला के अभ्यासकों व महिला-बालिका मंडल द्वारा दी गई। व्यवस्था श्री आदिनाथ जैन सेवा मंडल, आदिनाथ अर्हम मैया एकता परिवार व समकित गु्रप ने संभाली, कार्यक्रम पश्चात साधर्मिक भक्ति का आयोजन किया गया।

श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ चातुर्मास २०१८
श्री आदिनाथ भगवान एवं दादा गुरुदेव को अभिषेक हेतु २ स्वर्ण कलश भेंट
swarn-kalash

राजगढ़ (धार) म.प्र.: ५अक्टूबर २०१८ को श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ में चातुर्मासार्थ विराजित दादा गुरुदेव की पाटपरम्परा के अष्ठम पट्टधर वर्तमान गच्छाधिपति आचार्यदेवेश श्रीमद्विजय ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. की निश्रा में परम गुरुभक्त श्री मोहनलाल शंकरलालजी जैन परिवार ने प्रभु श्री आदिनाथ भगवान व दादा गुरुदेव श्रीमद्विजय राजेन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. की गुरुप्रतिमा पर अभिषेक हेतु श्री आदिनाथ राजेन्द्र जैन श्वे. पेढ़ी ट्रस्ट श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ में २ स्वर्ण कलश अर्पित किये, इसके पूर्व गुरुभक्त परिवार ने पूज्य आचार्य श्री ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. से आशीर्वाद प्राप्त कर कलश पर वासक्षेप करवाया, इस अवसर पर मुनिराज श्री पुष्पेन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री रुपेन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जिनचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जीतचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जनकचन्द्रविजयजी म.सा. आदि ठाणा व श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ के महाप्रबंधक अर्जुनप्रसाद मेहता, आनन्दीलाल धारीवाल, वाल्मिकी मेहता, महेन्द्र जैन आदि भी उपस्थित थे।

पर्वाधिराज पर्यूषण संवत्सरी महापर्व पर धर्ममय प्रखर उद्बोधन

नई दिल्ली : भक्ति भावों का सैलाब न्यू फ्रेंड्स कालोनी के जे.आर. जैन भवन में इन दिनों चरमोत्कर्ष पर है, ‘‘तीरवी वाणी की पावन सरिता’’ के विसद से बहुचर्चित उ.भा. प्रवर्तिनी डॉ. सरिता जी म., घोर तपस्विनी डॉ. पिंकी (शुभा) जी म., परम विदुषी साध्वी सम्बोधि श्री म. तथा सेवाभावी रजनी जी म. के पावन सानिध्य में महापर्व पर्यूषण की आराधना का मंगलमय ठाठ लगा है। तपस्याओं की झड़ी लगाने वाले एन.एफ.सी., ग्रेटर कैलाश, भोगल, रोहिणी, ईस्ट ऑफ कैलाश, कालिन्दी, ग्रीन पार्क, कालकाजी आश्रम, डिफेंस कालोनी, जंगपुरा, बदरपुर, उड़ीसा, नीमच तथा अन्य पर्वाधिराज पर्यूषण की उपासना में जुटे हैं, सभी के मन में उत्साह-तरंगे और न ही क्षेत्र सम्बन्धी दूरी की चिन्ता है, सभी को इन दिनों अपनी आत्मशुद्धि और गुरू अर्चना की भावना इतना विभोर किये हुए है कि बस निराला ही समा बँधा है। आठों दिन महामंत्र नवकार जप की स्वरलहरियाँ गूँजती रही। सुबह लगभग ६ बजे से जाप प्रारंभ हो जाता ८.०० बजे से शास्त्र वाचन और प्रवचन का कार्यक्रम शुरू होता, जो श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करता रहा। परम पूज्य प्रवर्तिनी जी द्वारा धाराप्रवाह जिनवाणी की देशना ऐसी जादू भरी होती थी कि यहाँ विराजित श्रोतागण आत्मविस्मृत हो जाते।
परम श्रद्धेय आचार्य सम्राट ध्यान योगी श्री शिवमुनि जी म.सा. की कृपा से स्थानक में अभूतपूर्व रंग बरसा, श्री अन्तगड़ सूत्र एवं कल्पसूत्र का बहुत सुंदर रीति से होने वाला पाठ श्रवण कर सभी अत्यधिक आनंदित हुए। सुश्री महक और सुश्री मुस्कान ने महामंत्र नवकार के भक्तिगीत पर नृत्य प्रस्तुति दी, तपस्वियों का बहुमान किया गया। आलोचना पाठ के बाद सबने मांगलिक श्रवण किया।
संघ अध्यक्ष सुश्रावक सुभाष ओसवाल ने अपनी धर्म सहायिका नीलम ओसवाल सहित सभी कार्यक्रमों में बढ़-चढ़कर भाग लिया। भक्तिमय वातावरण से गद्गद् होते हुए तपस्वी भाई-बहनों के साथ गणमान्य व्यक्तियों का बहुमान समागत अतिथियों का आभार व्यक्त किया गया। सुश्राविका संगीता जैन (धर्मपत्नी महेश जैन) ने आयम्बिल की तपस्या करते हुए सायंकालीन प्रतिक्रमण कराने का संपूर्ण पर्यूषण पर्व में आठ दिनों तक विपुल लाभ लिया, कई परिवारों के तो सभी सदस्य इस तपयज्ञ में जुड़ कर सभी के प्रेरणा स्त्रोत बनों।
दिनांक १३ सितंबर को महापर्व संवत्सरी संबंधी प्रतिक्रमण संपन्न हुआ, विगत वर्ष में जाने-अनजाने में हुई भूलों के लिए ८४ लाख जीवायोनियों के साथ क्षमायाचना, परमपूज्य आचार्य प्रवर, युवाचार्य जी, उपाध्याय जी, प्रवर्तकजी एवं समस्त पूज्य संतरत्नों एवं महासत्तियाँ जी म.सा. से हार्दिक क्षमायाचना कर सब ने अपनी आत्मा को उज्जवल किया। क्षमापना पर्व दिनांक १४ सितंबर को प्रात:काल ६.३० बजे नवकार मंत्र जाप के समापन सहित मंगलमय क्षणों में सोल्लास सम्पन्न हुआ। पर्यूषण पर्व की ऐतिहासिक आराधना के सभी दिनों में श्रोताओं की उपस्थिति उत्साहवर्धक रही। १५ उपवास, अठाईयाँ, आयंबिल, तप, बेले, तेले और उपवास तप सहित संवर-पौषध करने वाले भाई-बहनों की सूची काफी लम्बी रही। पर्वाधिराज पर्यूषण पर्व एवं संवत्सरी पर्व के दिनों में नियमित स्वाध्याय भी चलता रहा, इस प्रकार प्रखर उद्बोधन सहित पर्वाधिराज पर्यूषण पर्व की आराधना सम्पन्न हुई।

-सुभाष ओसवाल ‘हिंदी सेवी’ नई दिल्ली
अजित बागमार को अंतर्राष्ट्रीय नेतृत्व पुरस्कार
ajit-bagmar

नाशिक : अखिल भारतीय मारवाड़ी गुजराती मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष अजित हुकुमचंद बागमार को अंतर्राष्ट्रीय आदर्श नेतृत्व विकास पुरस्कार २०१८ से सम्मानित किया गया, पटाया के हॉटल सिझन में अंतर्राष्ट्रीय सामाजिक सम्मेलन चायनीज सोशल ग्रुप के अध्यक्ष डॉ. चिंचोग द्वारा यह सम्मान दिया गया, इस अंतर्राष्ट्रीय शिवीर में भारत के १०० प्रतिनिधी व ऑस्ट्रेलिया, थाईलैंड, न्यूर्याक, इंडोनेशिया, सिंगापुर आदि से ५०० अंतर्राष्ट्रीय प्रतिनिधी उपस्थित थे।
अजित जी ने अभी तक ५० से अधिक संस्थाओं में अध्यक्ष के रूप में अपनी सेवाएं प्रदान की व नई प्रतिभाओं को साथ लेकर सामाजिक कार्य करते रहे हैं।
अखिल भारतीय मारवाड़ी-गुजराती मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष अजित बागमार नासिक में सुप्रसिद्ध नेचरोपॅथी, अ‍ॅक्युप्रेशर विशेषज्ञ के रूप में आज तक हजारों मरीजों के विविध प्रकार के रोगों का इलाज के साथ हजारों लोगों को व्यसनमुक्त करने का पवित्र कार्य कर रहे हैं। सामाजिक कार्यों में आगे बढ़ते सभी जाति धर्म के लोगों के लिए सामुहिक विवाह का भी आयोजन करते रहे हैं, इसी तरह अन्य सामाजिक कार्यों में भी आप सक्रिय भागीदारी निभाते रहते हैं।
अजित बागमार की नियुक्ति पर विधानसभा के पूर्व सभापति अरूणभाई गुजराती, खा. दिलीप गांधी, आ. डा सुधीर तांबे, आ. दराडे बंधु, आ. देवयानी फरांदे, आ. अनिल कदम, आ. बाळासाहेब सानप, माजी मंत्री बाळासाहेब थोरात, बबनराव घोलप, शोभाताई बच्छावत, बबनराव पाचपुते, राज पुरोहित, प्रतापदादा सोनवणे, निलीमाताई पवार, कोंडाजी मामा आव्हाड, माणिकराव बोरस्ते, हेमराज खाबिया, रमेश निमाणी, महेश पठाडे, सुनिल भोर आदि गणमान्यों ने भी स्वागत किया।

श्री दिगम्बर जैन समाज के वृद्धजन सम्मान समारोह सम्पन्न

जोधपुर : श्री दिगम्बर जैन पंचायत जोधपुर ने वृद्धजनों का सम्मान दिनांक २४-९-२०१८ वार सोमवार को श्री आदिनाथ वाटिका श्री दिगम्बर जैन मन्दिर रेल्वे स्टेशन के पास जोधपुर में किया गया, इस अवसर पर भजन संध्या का आयोजन भी किया गया। श्री अभिनन्दन जैन व श्री आकाश जी पांडया ने मधुर वाणी भजन प्रस्तुत किया, वृद्धजनों के सम्मान में भजन माला का आयोजन किया गया जो इस समारोह में खुशी का आनन्द छा गया। सम्मानित होने वालों में श्री कपूरचन्द जी जैन, श्री सुमेरचन्द जी जैन, श्री.डी.के. जैन, श्यामलाल जैन, राजेन्द्र कुमार जैन, मोहनलाल जैन, श्री एस.के. जैन, राजकुमार जैन, रजनीश कुमार जैन, विजेन्द्र कुमार जैन, महावीर प्रसाद जैन (अजमेरा) जैन गजट संवाददाता, सुरेश जैन (अजमेरा), सुमेरमलजी जैन आदि। श्रीमती जैनमीत जैन, श्रीमती कवलापति जैन, श्री विद्यमान जैन, श्रीमती कमला जैन, श्रीमती कमला पाटनी, श्रीमती शान्ता देवी, श्रीमती अ. सुमित्रा जैन, श्रीमती कमला देवी जैन, श्रीमती विद्या जैन को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के प्रायोजक सुरेश अजमेरा, संचालन रवि जैन, संयोजक राज कुमार छावड़ा व जैनम ग्रुप के सभी सदस्यों ने बड़ी लगन से कार्य किया, जैनम ग्रुप के सदस्यों ने वृद्धजनों का पाद पक्षाल भी किया व आशीर्वाद प्राप्त किया, इस अवसर पर जैन पंचायत के सभी कार्यकारणी के सदस्यों ने सभी वृद्धजनों की दीर्घायु व स्वस्थ जीवन की मंगल कामना की।

-महावीर प्रसाद जैन (अजमेरा) जोधपुर
delhi-jain

दिल्ली : ५ अक्टुबर २०१८ युवाचार्य श्री महेंद्र ऋषि जी के ५२ वें जन्म दिवस पर उदयपुर राजस्थान में आचार्य श्री शिव मुनि जी के पावन सानिध्य में सभी जैन साधु-साध्वी जी महाराज की सेवा करने व जीव दया पुरस्कार वितरित करते हुए |

You may also like...